मुख्यमंत्री ने विशेषाधिकार का इस्‍तेमाल कर जारी की चिकित्सकों की अटकी तबादला नीति

उत्तराखंड मे पहाड़ो पर रहने वाले लोगों को सरकार ने विशेषाधिकार का इस्तेमाल करते हुए राहत का काम किया है। पहाड़ी व दुर्गम क्षेत्रों में चिकित्सकीय सेवाएं उपलब्ध कराने पर ज्यादा जोर दिया गया है। पहले डॉक्टर दुर्गम पहाड़ो पर स्वास्थ्य सुविधा देने नही जाते थे। लेकिन सरकार की पहल के बाद अब जो डॉक्टर पहाड़ो पर जाकर स्वास्थ्य सुविधायेँ देंगे। उन्हे 20 फीसदी ज्यादा वेतन दिया जाएगा और उनके परिवार को शहर के अनुरूप सुविधाएं दी जाएंगी। नई नीति में हाउस रेंट की भी व्यवस्था है। यदि कोई डॉक्टर सुगम स्थानों पर सेवा दे रहा है तो उसका 5 साल बाद तबादला किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों और अधिकारियों को यह आदेश दिया कि शिक्षा और स्वास्थ्य सेवायें दुर्गम स्थानों पर रहने वाले लोगों को बेहतर मिले। उसमे किसी प्रकार की कोताही न हो। विस्तार से देखें।

 

Advertisements