उत्तराखंड मे प्रकृति ने इस कदर कहर बरपा रही है कि लोगों पर बिन बुलाये मुसीबत आ रही है। विगत वर्षो मे आई आपदा को अभी लोग भूल नही पाये थे, कि टिहरी मे दुबारा बादल फटने से आपदा आ गयी। और आपदा यहीं नही रुकी। दो दिन बाद ही उत्तरकाशी ज़िले के मोरी ब्लॉक मे बादल फटने से दो दर्जन मवेशी बह गए। 64 परिवारों ने घर छोड़कर सुरक्षित ठिकानो पर पनाह ले ली है। चारधाम यात्रा मार्गों के खुलने और बंद होने का सिलसिला थम नही पा रहा है। पर्यटक आ नही रहे है। जिनकी रोजी-रोटी पर्यटक के बल पर चल रही थी। वो आज खाली बैठे पड़े है। लोगो की खेती योग्य जमीन नस्ट हो गयी। लगातार बारिश होने से नदियां ऊफान पर है। ऐसे हालात मे इन्सान करे तो क्या करे। विस्तार से देखें।

सौजन्य से: दैनिक जागरण

Advertisements