केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने करोड़ों रुपये के कोयला खदान आवंटन घोटाला मामले में सीबीआई द्वारा पंजीकृत प्रारंभिक जांच (पीई) के विभिन्न मामलों में से कई को बंद करने के प्रस्ताव का विरोध किया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इस संदर्भ में सीवीसी ने हाल ही में अपनी रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय को सौंपी है। शीर्ष अदालत ने 28 मार्च को सीवीसी से ऐसे मामलों में उन प्रकरणों पर गौर करने को कहा था, जहां मामला बंद करने के सवाल पर सीबीआई के अधिकारियों के बीच अलग—अलग राय थी। सीवीसी को भ्रष्टाचार के मामलों में सीबीआई जांच की निगरानी करने का अधिकार है।

सीवीसी ने 25 मामलों में पीई बंद करने संबंधी सीबीआई की फाइलों की जांच की है। सीवीसी ने 17 मामलों में 30 अप्रैल को और शेष 8 के बारे में 9 मई को अपनी रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय को सौंपी।

सूत्रों ने कहा कि आयोग ने 9 मई को सौंपी अपनी रिपोर्ट में कई मामलों में जांच की फाइल बंद करने के सीबीआई के प्रस्ताव का विरोध किया है। सीवीसी ने 17 पीई में तीन के मामले के मामले में नियमित मामला दर्ज करने की सिफारिश की है।

जांच और निगरानी करने वाले सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच इन 25 पीई को बंद करने को लेकर अलग—अलग राय थी।
सीबीआई ने कोयला खदान आवंटन मामले में कथित भ्रष्टाचार की जांच के संदर्भ में अब तक 19 प्राथमिकी दर्ज की है।
सौजन्य से: लाइव हिंदुस्तान.कॉम

Advertisements