हल्द्वानी। कार्बेट पार्क का बफर जोन बढ़ाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए सभी सुनवाई प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। बफर जोन में लैंसडाउन वन प्रभाग की दो रेंज को शामिल किया जाएगा। आचार संहिता खत्म होने के बाद इस संबंध में आदेश होने की उम्मीद है।

कार्बेट पार्क और राजाजी नेशनल पार्क की सीमा लैंस डाउन वन प्रभाग से जुड़ी हुई है। इस प्रभाग से ही शिकारियों के घुसने की आशंका सबसे ज्यादा रहती है। पर प्रभाग के पास सुरक्षा के संसाधन सीमित है, जबकि कार्बेट पार्क के लिए नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथॉरिटी (एनटीसीए) से बजट, तकनीक दक्षता हासिल होती है। इसके मद्देनजर तय हुआ कि पांच रेंज वाले लैंस डाउन प्रभाग की चार रेंजों में से दो को कार्बेट पार्क और दो को राजाजी नेशनल पार्क का बफर जोन बनाने की योजना बनाई है। कार्बेट पार्क में लैंस डाउन वन प्रभाग का दुगड्डा और कोटड़ी रेंज शामिल होगी। इसी तरह राजाजी नेशनल पार्क में लालढांग और कोटद्वार रेंज शामिल होगी। कार्बेट पार्क में दो रेंजों को शामिल करने के लिए सुनवाई की प्रक्रिया होनी थी। विभागीय अधिकारियों के अनुसार यह सुनवाई पूरी हो गई है। जल्द ही लैंस डाउन का एरिया बफर जोन में शामिल होने का आदेश हो सकता है।

लैंस डाउन के प्रभागीय वनाधिकारी डीएफओ नीतीशमणि त्रिपाठी कहते हैं कि जो एरिया बफर जोन में शामिल होगा, उसका प्रशासनिक नियंत्रण हमारे डिवीजन में रहेगा। बफर जोन में शामिल होने से सुरक्षा के लिए बजट, कर्मचारियों की संख्या बढ़ सकेगी।

सौजन्य से: अमर उजाला ब्यूरो

Advertisements