तीन करोड़ रुपये से हो रहा यमुनोत्री हाईवे पर पेंटिंग और पैचवर्क
बड़कोट (उत्तरकाशी)। यमुनोत्री हाईवे पर डामरीकरण कार्य की सुस्त गति और घटिया गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं। एनएच के अभियंता गढ़वाल आयुक्त और अधीक्षण अभियंता के आदेशों को ठेंगा दिखाकर मनमाने ढंग से पेंटिंग कार्य कर रहे हैं। इससे यात्रा से जुड़े व्यवसायियों के साथ ही क्षेत्रीय लोगों में रोष है। चारधाम यात्रा को देखते हुए यमुनोत्री हाईवे पर बरनीगाड़ से फूलचट्टी तक 3.15 करोड़ से पेंटिंग और पैच वर्क कार्य चल रहा है, लेकिन घटिया गुणवत्ता के कारण पेंटिंग बिछने के एक-दो दिन बाद ही उखड़ रही है। सड़क पर कई जगह गड्ढे हो गए हैं। सरुखेत से दोबाटा के बीच तो सीसी सड़क के ऊपर ही डामरीकरण किया जा रहा है। बीते दिनों हाईवे के निरीक्षण को पहुंचे एनएच के अधीक्षण अभियंता आरसी अग्रवाल ने अधिकारियों को सीसी उखाड़ने के बाद ही डामरीकरण करने के निर्देश दिए थे, लेकिन अधिकारी निर्देश का पालन नहीं कर रहे हैं। गढ़वाल आयुक्त सीएस नपल्च्याल ने भी बीते सप्ताह यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लेने के दौरान एनएच के अभियंताओं को डामरीकरण कार्य में सुधार लाने की सख्त हिदायत दी थी। आयुक्त ने यह भी चेतावनी दी थी कि यदि काम में सुधार नहीं हुआ, तो अभियंताओं से धन की वसूली की जाएगी। लेकिन एनएच के अभियंताओं पर आयुक्त की चेतावनी का कोई असर नहीं दिखाई दे रहा है। हाईवे पर सुस्त गति और घटिया गुणवत्ता से चल रहे करोड़ों के डामरीकरण कार्य पर लोग सवाल उठा रहे हैं।
सीएम से की जांच की मांग
कांग्रेस ब्लाक उपाध्यक्ष दीवान सिंह असवाल ने नगर क्षेत्र में करीब 30 लाख रुपये से हो रहे सीसी सड़क एवं दीवार निर्माण की जांच की मांग की है। सीएम को भेजे ज्ञापन में उन्होंने बताया कि यह कार्य निम्न गुणवत्ता से किए जा रहे हैं। अभियंताओं की मिलीभगत के चलते सरकारी धन की बंदरबांट की जा रही है। उन्होंने एनएच की ओर से हाईवे पर करवाए जा रहे सभी कार्यों की जांच की मांग की है।
यमुनोत्री हाईवे पर डामरीकरण एवं पैचवर्क कार्य पूरी गुणवत्ता के साथ किया जा रहा है। यदि कहीं डामरीकरण उखड़ रहा है, तो उसे दिखवाया जाएगा।
दिनेश कुमार बिजल्वाण, अधिशासी अभियंता, एनएच बड़कोट।
डामरीकरण में हो रही मानकों की अनदेखी
नैनबाग (टिहरी)। जन प्रतिनिधियों ने बंगसील मोटर मार्ग पर चल रहे डामरीकरण कार्य में मानकों की अनदेखी करने का आरोप लगाया है। दुर्गा पुल से बंगसील तक मार्ग पर डामरीकरण कार्य चल रहा है। बंगसील के दीपक सजवाण, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य सरिता देवी, नरेश पुंडीर, कुंवर सिंह, चंदन सिंह पंवार का कहना है कि डामरीकरण से पहले सड़क पर पत्थर बिछाए जाने चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं किया जा रहा है। जहां पत्थर बिछाए गए हैं, वे सड़े हुए पत्थर हैं। डामरीकरण में तारकोल का भी कम उपयोग किया जा रहा है। सड़क निर्माण कार्यों की उच्च स्तरीय जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। लोनिवि के ईई एनएस खोलिया का कहना है कि डामरीकरण कार्य गुणवत्ता के साथ किया जा रहा है। जनप्रतिनिधि चाहे तो किसी भी अन्य एजेंसी से कार्य की जांच करवा सकते हैं।
सौजन्य से: अमर उजाला
Advertisements