पथरी। अवैध खनन सामग्री खरीदने और अधिक स्टॉक रखने की सूचना पर प्रशासन ने दो स्टोन क्रशरों पर छापा मारा। इस दौरान ज्यादा भंडारण में गणेश स्टोन क्रशर को सीज कर दिया। जबकि दूसरे क्रशर की जांच जारी है। बुधवार को पथरी क्षेत्र में एसडीएम बीर सिंह बुदियाल और तहसीलदार शाहिद हुसैन ने प्रशासनिक टीम के साथ स्टोन क्रशर पर खनन सामग्री की जांच की। जिसमें भोगपुर में गणेश स्टोन क्रशर पर निर्धारित मानकों से अधिक खनन सामग्री मिली। तहसीलदार ने बताया कि क्रशर पर 50 हजार घन मीटर से अधिक सामग्री पाई गई है। इसकी जांच कर शीघ्र जुर्माना तय किया जाएगा। इसकेअलावा महालक्ष्मी स्टोन क्रशर के स्टॉक की जांच की तो क्षमता से कम स्टॉक मिला। एसडीएम का कहना है कि खनन से जुड़े सभी क्रशर और पट्टेधारकों की जांच की जा रही है। कुछ पट्टेधारकों के द्वारा नियत स्थान से अलग खनन करने की शिकायत मिली है। इसकी जांच की जा रही है। वहीं प्रशासन की कार्रवाई से अवैध खनन करने वालों में हड़कंप मचा हुआ है।

पट्टाधारकों को भेजा 25 लाख जुर्माने का नोटिस
हरिद्वार। एंटी माईनिंग फोर्स ने सीज किए गए दो पट्टों के स्वामियों को पच्चीस लाख का नोटिस भेजने की तैयारी कर ली है। फोर्स की कार्रवाई से खनन माफियाओं में हडकंप की स्थिति बनी हुई है। तीन दिन पूर्व एंटी माईनिंग फोर्स ने विशनपुर कुंडी में छापा मारकर पट्टों की आड़ में अवैध खनन होना पाया था। पट्टों की सीमा से बाहर धडल्ले से खनन हो रहा था। फोर्स के सीईओ संजय गुंज्याल के निर्देश पर पट्टाधारक राजेंद्र कुमार और प्रसादा के पट्टे सीज कर दिए गए थे। फोर्स की माप जोख में भी बडे़ पैमाने पर अवैध खनन होना सामने आया था। फोर्स के सीईओ संजय गुंज्याल ने बताया कि दो पट्टाधारकों को पच्चीस लाख का नोटिस भेजा जा रहा है। श्यामपुर और पथरी क्षेत्र में अवैध खनन होने की कई शिकायत मिली है। जल्द ही टीम उन क्षेत्रों में भी कार्रवाई करेगी।

पट्टेधारकों ने भरा 26 लाख का जुर्माना
हरिद्वार। सत्तारूढ़ कांग्रेस के पूर्व दर्जाधारी श्रीकांत वर्मा और भाजपा सरकार में काबीना मंत्री रहे दिवाकर भट्ट की पुत्रवधू ने एंटी माईनिंग फोर्स की ओर से ठोका गया 26 लाख रुपये का जुर्माना अदा कर दिया है। एटीमाईनिंग फोर्स ने फरवरी माह में 14 तारीख को श्यामपुर क्षेत्र में अवैध खनन के खिलाफ बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया था। फोर्स ने पूर्व दर्जाधारी व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता श्रीकांत वर्मा का रामपुर रायघटी में चल रहे पट्टे और पूर्व काबीना मंत्री दिवाकर भट्ट की पुत्रवधु सीमा भट्ट के बसेचंदपुर स्थित पट्टे से अवैध होना पाया था। फोर्स के सीईओ संजय गुंज्याल ने बताया कि पट्टा स्वामियों से करीब 26 लाख रुपये जुर्माना वसूल किया गया है। जुर्माने की रकम जिला कोषागार में जमा कराई गई है।

आखिर रुक क्यों नहीं रहा अवैध खनन
हरिद्वार। जनपद में अवैध खनन पर अब से पहले चार बड़ी कार्रवाई की गई है। जिनमें हर बार की कार्रवाई में करोड़ों रुपये का जुर्माना लगाया गया है और पट्टे, क्रशर और वाहनों को सीज किया गया। लेकिन इसके बाद भी अवैध खनन जारी है। सवाल उठता है कि आखिर अवैध खनन और स्टोन क्रशरों की मनमानी पर रोक क्यों नहीं लग पाती। एंटी माइनिंग फोर्स की टीम ने सबसे पहले नौ जनवरी 2014 को क्षेत्र में 30 करोड़ का अवैध खनन होने की बात कही, लेकिन चार पट्टों पर दो करोड़ का जुर्माना किया और एपीएस स्टोन क्रशर पर 50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। इससे अवैध खनन करने वालों में खलबली मच गई। इसके बाद एंटी माइनिंग फोर्स ने 12 जनवरी को अवैध खनन के खिलाफ फिर कार्रवाई की जिसमें सात स्टोन क्रशर और तीन क्रशर सीज किए। इसके अलावा 12 ट्रैक्टर ट्राली, दो जेसीबी, दो लोडर सीज किए। इस कार्रवाई में दो करोड़ रुपये का जुर्माना किया गया। इसके बाद 21 जनवरी को स्थानीय प्रशासन ने 70 लाख रुपये का जुर्माना किया। एंटी माइनिंग टीम ने एक बार फिर 22 जनवरी को चार क्रशर सीज करते हुए एक करोड़ 46 लाख रुपये का जुर्माना किया। हर बार जुर्माना होता है और फिर से अवैध खनन शुरु हो जाता है। शासन-प्रशासन ओर से अवैध खनन पर रोक और स्टोन क्रशरों पर स्थायी तौर पर नकेल लगाने के कोई प्रबंध नहीं किए जाते हैं।
•करोड़ों का जुर्माना लगाने के बाद भी हो रहा खेल
•स्टोन क्रशरों की मनमानी बड़ी वजह
अमर उजाला ब्यूरो

Advertisements