संवाद सूत्र, होली : जनजातीय क्षेत्र होली में विद्युत परियोजना के खिलाफ लोगों का संघर्ष लगातार जारी है। परियोजना का विरोध कर रहे ग्रामीण किसी भी सूरत में पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। प्रशासन और ग्रामीणों के बीच बातचीत असफल होने के बाद सोमवार को भी महिलाओं ने कीं नाला में प्रदर्शन किया और ब्लास्टिंग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

महिलाओं ने साफ कर दिया है कि उनका यह प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक उन्हें न्याय नहीं मिल जाता। प्रदर्शन पर उतरे ग्रामीण किसी भी सूरत में पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। होली में छह दिन से लगातार संघर्ष चल रहा है और इस दौरान प्रदर्शन के एवज में महिलाओं पर मामले भी दर्ज हो चुके हैं। इतना ही नहीं भरमौर के अतिरिक्त दंडाधिकारी ने महिलाओं को 12 घंटे की मोहलत दी थी और इसके बाद ग्रामीणों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी भी दी। लेकिन इस चेतावनी के बावजूद महिलाएं विरोध स्थल से नहीं हटी और उनका प्रदर्शन जारी रहा। महिला मंडल प्रधान पिंकी देवी का कहना है कि परियोजना स्थल पर ब्लास्टिंग का कोई समय निर्धारित नहीं है। कंपनी के ठेकेदार मनमर्जी से ब्लास्टिंग कर रहे हैं। परियोजना के निर्माण से होली क्षेत्र को खतरा हो सकता है।

महिलाएं या ग्रामीण परियोजना के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन सुरंग का स्थल बदला जाना चाहिए। कंपनी को होली के लेफ्ट बैंक में जरूरी आवास व मशीनरी रखने की इजाजत दी जा सकती है लेकिन सुरंग बनाने का काम शुरू नहीं होने दिया जाएगा। सोमवार को होली में महिलाओं ने प्रदर्शन किया और परियोजना के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महिलाओं ने प्रदर्शन का अंदाज बदलने की बात कही है और वे अन्य लोगों को भी जागरूक करने की बात कर रहे हैं। बारिश के बावजूद महिलाएं विरोध प्रदर्शन में डटी रही। उन्होंने आने वाले दिनों में प्रदर्शन पर डटे रहने की बात कही है।

Courtesy: Jagran.com

Advertisements