खोखली बुनियाद पर करवा रहा सुरक्षा दीवार का निर्माण, लोगों ने किया विरोध, रोक की मांग

कर्णप्रयाग। ब्लाक के न्यू डिम्मर में सिंचाई विभाग खोखली बुनियाद पर ही दीवार का निर्माण करने में जुटा हुआ है। इस निर्माण में करीब 14 लाख रुपये खर्च होने हैं लेकिन बरसात में नदी में पानी बढ़ा तो दीवार बह जाएगी। लोगों ने निर्माणाधीन कार्य का विरोध करते हुए इस पर रोक लगाने की मांग उठाई है। जून 2013 की बाढ़ में सिमली कस्बे के ठीक सामने न्यू डिम्मर में सुरक्षा दीवार बह गई थी। ग्रामीणों की लगातार मांग के बाद आपदा पुनर्निर्माण समिति की ओर से बाढ़ सुरक्षा दीवार के लिए 14 लाख की धनराशि स्वीकृत हुई, लेकिन निर्माण कार्य कर रहा सिंचाई विभाग काम में अनियमितता बरत रहा है। निवर्तमान प्रधान आशा डिमरी, ग्रामीण मनोज कुमार और भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद डिमरी ने कहा कि विभाग निर्माण कार्य के प्रति गंभीर नहीं है। पिंडर नदी की बाढ़ से खोखली हो चुकी पुरानी क्षतिग्रस्त दीवार और भूमि पर ही नई दीवार का निर्माण किया जा रहा है। बरसात में पिंडर नदी के कटाव से यह दीवार बह जाएगी। उन्होंने कहा कि मामले में संबंधित विभाग के अधिकारियों से शिकायत की गई, लेकिन अधिकारी अभी नदी में पानी बढ़ने की बात कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं। डिम्मर में करीब 73 मीटर लंबी बाढ़ सुरक्षा दीवार का निर्माण किया जा रहा है। कुछ स्थानों पर बाढ़ से बुनियाद खोखली है, लेकिन पानी बढ़ने से पैकिंग (मरम्मत) नहीं हो पाई है। जलस्तर कम होने पर खोखले स्थानों की पैकिंग कर दी जाएगी।
– जगदीश थपलियाल प्रभारी एई सिंचाई विभाग कर्णप्रयाग।
आचार संहिता से रुके सुरक्षा कार्य
बड़कोट। बीते दो सालों की बाढ़ से तबाह हुए पर्यटक स्थल खरादी की सुरक्षा की कवायद चुनाव आचार संहिता के कारण थम गई है। इस कस्बे को सुरक्षित करने के लिए 6.85 करोड़ की स्वीकृति तो मिल गई, लेकिन लोकसभा चुनाव आचार संहिता के चलते अनुबंध एवं टेंडर प्रक्रिया न होने से बाढ़ सुरक्षा कार्य शुरू नहीं हो पा रहे हैं। ऐसे में कस्बे के अस्तित्व पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं।
यमुनोत्री यात्रा मार्ग स्थित खरादी कस्बे में पिछले दो सालों में बाढ़ से दर्जनों आवासीय भवनों के साथ ही आलीशान होटल भी बाढ़ की भेंट चढ़ गए थे। इस बीच सिंचाई विभाग ने अस्थायी सुरक्षा के नाम पर 38 लाख रुपये खर्चे हैं। आपदा प्रभावित विरेंद्र सिंह पयाल, मोहन सिंह पंवार, केंदर सिंह आदि ने सिंचाई विभाग से शीघ्र ही बाढ़ सुरक्षा कार्य शुरू करने की मांग की है तथा ऐसा न करने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।
सुरक्षा कार्यों के लिए टेंडर का इंतजार
दो सालों की बाढ़ में खरादी को भारी नुकसान
खरादी कस्बे में सुरक्षा कार्यों के लिए बजट मिल गया है। निर्वाचन आयोग से टेंडर एवं अनुबंध प्रक्रिया की अनुमति मिलने के बाद ही काम शुरू करने की प्रक्रिया शुरू हो पाएगी।
-आरके गुप्ता, ईई सिंचाई विभाग

अमर उजाला ब्यूरो
Advertisements