पांवटा साहिब. यमुना नदी में हो रहे अवैध खनन को रोकने के लिए सोमवार सुबह पांच बजे डीएसपी के नेतृत्व में गई पुलिस की टीम पर खनन माफिया ने हमला बोल दिया। करीब दो घंटे तक पुलिस व खनन माफिया के बीच झड़पें हुई। इस झड़प में डीएसपी के हाथ में भी चोट लगी है। इसके अलावा एक व्यक्ति ने डीएसपी के ड्राइवर के साथ मारपीट की और मौके से फरार गया।

इन दिनों खनन माफिया के हौंसले इतने बुलंद हैं कि पिछले एक सप्ताह में वन विभाग, खनन विभाग व पुलिस विभाग की टीमों पर कई बार हमले हो चुके हैं। पुलिस को जानकारी मिली थी कि यमुना नदी में रामपुर घाट के पास सुबह चार बजे से अवैध खनन शुरू हो जाता है।

डीएसपी नरवीर राठौर ने पुलिस की टीम का गठन कर सुबह पांच बजे रामपुर घाट के समीप यमुना नदी में अवैध खनन कर रहे कई ट्रैक्टरों को घेर लिया। कई ट्रैक्टर ड्राइवर तो खाली ट्रैक्टर छोड़कर उत्तराखंड की तरफ भाग निकले। कुछ लोग पुलिस टीम से उलझ पड़े।

8 ट्रैक्टरों को लाया थाने
पुलिस के जवान 5 खाली ट्रैक्टर व 3 बजरी से भरे हुए ट्रैक्टरों को थाने ले आई। दूसरी ओर रामपुर घाट के ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि पुलिस बड़े-बड़े ट्रकों को पकडऩे की बजाए छोटे ट्रैक्टर के चालन काटती है। जो लोग अपने मकान के लिए निर्माण सामग्री ले जाते हैं उन्हें परेशान किया जा रहा है।

ग्रामीणों व क्रैशर मालिकों ने पुलिस के प्रति गहरा रोष व्यक्त किया हैं। उधर डीएसपी नरवीर सिंह राठौर ने बताया कि पुलिस की टीम ने यमुना नदी में खनन कर रहे 8 से ट्रैक्टरों को पकड़ा है।

उन्होंने कहा कि पुलिस अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई लगातार जारी रखेगी। अगर वन विभाग, खनन विभाग, पुलिस विभाग व प्रशासन संयुक्त रूप से कार्रवाई करेगा तो अवैध खनन करने वालों पर नकेल कसी जा सकती है। link

Courtesy: dainikbhaskar.com

Advertisements